ना यहाँ – ना वहाँ

0
12

ना मैं यहाँ होता हूँ ना मैं वहाँ होता हूँ

जिंदगी ना जाने क्या खेल खेलती है

मैं जहाँ होता हूँ

वीरेन्द्र सिंह

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here