लव लेटर

0
47

 

लव लेटर

कृपया दूसरों का लव लेटर ना पढे, और अगर पढे तो पूरा पढे|

जो पा लिया है तुम्हें तो जैसे सारा जहां पा लिया है,

हर खुशी पा ली है , हर पल पा लिया है ,

तुम्हें पा लिया है तो जीने का मकसद पा लिया है ,

साँसों की वजह पा ली है , दिन का चैन पा लिया है ,

तुझे पा लिया है तो जैसे सारा जहां पा लिया है ,

रोज जब तुम मिलने आते हो ,  गुलाब का एक फूल तुम मेरे लिए लाते हो ,

ये गुलाब का फूल ना लाया करो ,  एक छोटा सा तोहफ़ा ही ले आया करो ,

हाथ के लिये एक अँगूठी  ही सहि , कानों के लिये कभी बाली ही सहि

कभी गले की चैन तो कभी पैरों की पायल ले आया करो ,

कभी घड़ी हाथ की तो कभी टी-शर्ट ही ले आया करो ,

और सुनो ,  जन्मदिन है ना तुम्हारी बहना का सोलह को ,

तो अब कि बार मिलन, तो ड्रैस दिला लाना ,

आई लाईनर  , फाउंडेशन थोड़ा सामान मैकप का ले आना,

काजल लाना पर्फ्यूमलाना ,  लिपस्टिकको काही भूल ना जाना,

लेकिन चीजे सारी ब्रांडेड ही लाना,

ऑर्डिनरी ऐलर्जी थोड़ा मेरी स्कीन को करती है,

फिर एक बार मेरे साथ शॉपिंग मैकप के लिये कर लेंगे,

लगे हाथ मैचिंग सैन्डल भी खरीद लेंगे,

पर सुनों, सैन्डल मे मैं तुमसे थोड़ा लंबी नज़र आती हुँ,

तो सैन्डल के साथ दो जोड़ी जूती भी ले-लेगे,

सूट हे तुम्हें थोड़ा भाता,

इसलिए पसंद तुम्हारी के थोड़े सूट भी खरीद लेंगे,

अभी कर रहे है हाथ मेरे थोड़े दर्द,

इसलिए बाकी बाते मिल के कर लेंगे,

कुछ नहीं माँगा अब तक तुमसे ,

बस आज एक चीज़माँगती हूँ,

जब भी मिलनेमुझसे आना, दो सिल्क मेरे लिये लाना…

तुम्हारी प्राणों की प्यासी,

तुम्हारी अपनी सत्यानाशी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here